भानगढ़ किल्ले के दिलचस्प रहस्य – Bhangarh Fort Story In Hindi

Bhangarh Fort Story In Hindi

हैल्लो दोस्तों आज की पोस्ट में हम प्रसिद्ध Bhangarh Fort Story In Hindi के बारे में बात करेंगे आपने कभी ना कभी भूतो की कहानी तो सुनी ही होगी। वैसे तो बहुत सारे स्थान है जिनके बारे कहा जाता है। कि यहां आत्मा निवास करती है कई सारे ऐसे स्थान है। जहां किसी दुर्घटना की वजह से किसी की मौत हो जाने। या लम्बे समय से किसी मकान का खाली पड़ा रहना। कोई शुनशान स्थान आदि। ऐसे स्थानों पर जाने से सब डरते है। लोग ऐसी जगह पर कभी भी जाना पसंद नहीं करते है। क्योंकि ऐसे स्थान डरावने होते है और डरावने स्थानों पर जाना किसी को पसंद नहीं है।

Bhangarh Fort Story In Hindi

ऐसे बहुत सारे स्थान है जहां प्रमाणित भी हो चुका है कि इन स्थानों पर ऐसी ही कोई दुर्घटना हुई हो और किसी की मौत हुई व उनकी आत्मा को शांति ना मिलने से ये स्थान भूतिया स्थान में परिवर्तित हो जाते है। आज इस पोस्ट में हम राजस्थान के एक ऐसे ही भूतिया स्थान के बारे में चर्चा करने वाले है। जिसका नाम है भानगढ़ का किल्ला, इस स्थान के बारे में कहा जाता है कि इस स्थान में कुछ न कुछ गड़बड़ तो जरूर है।

भानगढ़ किल्ले की कहानी – Bhangarh Ki Kahani

इस किल्ले के बाहर चेतावनी के लिए एक बोर्ड पर साफ़ साफ़ लिखा है। कि इस किल्ले में सूर्यास्त से पहले व सूर्यास्त के बाद किल्ले में कोई भी प्रवेश ना करे। नाही की सूर्यास्त के बाद यहां कोई रुके। Bhangarh Fort Entry Fee 15 रूपये है। अब आपके मन में ये सवाल आ रहा होगा कि इस किल्ले में ऐसा क्या है। जिसके कारण यहां सूर्यास्त के बाद प्रवेश मना किया जाता है। वैसे तो ऐसा कोई प्रमाण नहीं है कि वहां क्या दुर्घटना हुई थी लेकिन कुछ कहानिया है। जो भानगढ़ किल्ले के इस रहस्य को शाबित करती है।

इन्हें भी पढ़े :

अजमेर शरीफ दरगाह के हैरान करने वाले रहस्य

राजस्थान के हैरान करने वाले अजीबो गरीब रहस्य

माना जाता है कि बहुत समय पहले भानगढ़ किल्ले में रत्नावती नाम की एक सुन्दर रानी थी। इस रानी पर एक काला जादू करने वाले बाबा की गलत नज़र थी। बताया जाता है उस बाबा ने अपनी तांत्रिक माया से उस रानी को अपने वश में किया। फिर उस रानी का शारीरिक शोषण किया। इसके बाद किसी दुर्घटना में उस तांत्रिक बाबा की मौत हो गयी थी। कहा जाता है कि उस तांत्रिक बाबा की आत्मा आज भी इस किल्ले में भटकती है।

Bhangarh Ka Rahasya

माना जाता है कि इस स्थान को तांत्रिक बाबा का श्राप था। जिससे ये स्थान कभी भी बस नहीं पाया व इस किल्ले में रहने वाले सख्स की मौत हो जाती है। प्रसिद्ध कहानी के अनुसार तांत्रिक बाबा सिंधु देवड़ा के पास एक पहाड़ पर कई तांत्रिक क्रियाएं करता था। तांत्रिक बाबा रानी रत्नावती के रूप का दीवाना था।

एक बार भानगढ़ के बाजार में रानी रत्नावती की दासी केश तेल लेने गयी थी उस समय उस तांत्रिक बाबा ने उसे देख लिया और उसने उस तेल को मन्त्रित कर दिया। जिससे उस तेल को जो भी लगाएगा वो उसके वश में हो जाएगा। सच्च में Bhangarh Kile Ka Rahasya रहस्य बहुत ही दिलचस्प रहस्य है। जब रानी के पास दासी तेल लेकर आई, रानी बौद्ध सिद्ध थी जिससे रानी को संका हो गयी थी। कि ये तेल उस बाबा दौरा अभिमंत्रित किया हुआ है।

भानगढ़ का इतिहास 

जब रानी को ऐसी शंका हुई तो रानी ने दासी के दौरा उस तेल को बाहर फिंकवा दिया। रानी के कहने पर दासी ने उस तेल को एक चटान के ऊपर फेक दिया। माना जाता है कि चटान पर तेल फेकने पर चटान भी सिंधु सेवड़ा पहाड़ की और जाने लगी। जब सिंधु सेवड़ा ने ये देखा तो उसने ये सोचा की इस पर रानी बैठकर उसके पास आ रही है। तब उस बाबा ने उस तेल को रानी को अपनी छाती पर डालने का आदेश दिया। लेकिन जब चटान उसके पास आयी तब उसको पता चला कि नहीं है।

जब चटान उसके पास आई तब बाबा ने चटान गिरने से पहले भानगढ़ जिले को उजड़ने का श्राप दे दिया। इसके बाद वो तांत्रिक बाबा खुद चटान के नीचे दबकर मर गया। इसके बाद रानी ने उस नगर को खाली कर दिया। जिससे ये नगर पूरी तरह से उझड़ गया।

माना जाता है कि ये स्थान सबसे पुराना स्थान है ये कहानी Bhangarh Fort Horror Story के नाम से भी प्रसिद्ध है। का किस काल में का शासन था, उस रानी का राजा कौन था ये सवाल सिर्फ सवाल ही बनकर  रह गए है। लेकिन माना जाता है कि भानगढ़ किल्ला सच्च में एक भूतिया किल्ला है और इस किल्ले में आज भी उस तांत्रिक बाबा की आत्मा भटक रही है।

हमने क्या जाना 

हमने आज भानगढ़ का इतिहास जाना उम्मीद करते है दोस्तों आपको हमारी पोस्ट Bhangarh Fort Story In Hindi पसंद आयी होगी अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी है तो आप हमारी पोस्ट अपने दोस्तों साथ भी जरूर शेयर करे। जिससे वो भी इसके बारे में जान सके।

धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here