अजमेर शरीफ दरगाह के हैरान करने वाले रहस्य

Ajmer Sharif History In Hindi

इस दरगाह में सिर्फ मुसलमान ही नहीं बल्कि इस दरगाह में सभी धर्म, जाति के लोग आते है और मन्नत मांगते है और उनकी मन्नत भी पूरी होती है ।

हैल्लो दोस्तों आज हम इस पोस्ट में राजस्थान में स्थित अजमेर शरीफ दरगाह के बारे में बताने वाले है जो राजस्थान के अजमेर जिले में है। अजमेर शरीफ दरगाह बहुत ही लोकप्रिय दरगाह है। अजमेर शरीफ दरगाह हज़रत ख्वाजा मोइनुदीन जिसदी की मज़ार है। ये दरगाह भारत के पवित्र स्थानों में से एक है। इस दरगाह में सिर्फ मुसलमान ही नहीं बल्कि इस दरगाह में सभी धर्म, जाति के लोग आते है और चादर चढ़ाके मन्नत मांगते है।

Ajmer Sharif Ki Dargah

हम आपको बताना चाहेंगे की अजमेर शरीफ दरगाह में हमारे देश किए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भी यहां आकर अपने हाथो से चादर चढ़ाई थी। इस स्थान पर बड़े बड़े हॉलीवुड व बॉलीवुड स्टार तथा बड़े बड़े नेता भी यहां चादर चढ़ाने आते है। व अपनी मन्नत मानते है।

Ajmer Sharif History In Hindi

अजमेर की शरीफ दरगाह में पहली बार हज़रत ख्वाजा मोइनुदीन जिसदी ने अपने कदम रखे थे। इन्होने 1332 में इस स्थान पर यात्रा की थी। दरगाह के अंदर स्थित जलाहारा नाम का एक स्मारक है हज़रत ख्वाजा मोइनुदीन जिसदी के समय से पहले का जल का मुख्य श्रोत है। इस जल का उपयोग अभी भी दरगाह के सभी कार्यो के लिए किया जाता है।

रोजाना अजमेर शरीफ दरगाह के हॉल में अल्लाह के नाम का बयान व गुणगान किया जाता है। इसके साथ ही यहां क्वालिया भी गायी जाती है। अजमेर शरीफ दरगाह के अंदर बड़े बड़े कढ़ाई है जिसके अंदर चावल, बादाम, घी, चीनी आदि चीज़ो के मिश्रण से एक खाध्य पदार्थ तैयार किया जाता है। इस खाने को रात्रि के समय बनाया जाता है व सुबह जनता को प्रशाद के रूप में बाँट दिया जाता है।

चांदी का खूबसूरत दरवाजा

अजमेर शरीफ दरगाह के पश्चिम दिशा में चांदी का चढ़ा हुआ एक खूबसूरत दरवाजा है। जो जन्नती दरवाजे के नाम से प्रसिद्ध है। हम आपको बताना चाहेंगे कि ये जन्नती दरवाजा साल में सिर्फ चार बार ही खुलता है।

अजमेर शरीफ के अंदर अकबर मस्जिद अकबर के द्वारा जहांगीर के रूप पुत्र रत्न की प्राप्ति के समय इस दरगाह का निर्माण करवाया गया था। अजमेर शरीफ दरगाह राजस्थान का बहुत ही पवित्र व धार्मिक स्थान है। यहां पर हज़ारो लोग आते है अपनी मन्नते मांगते है व इनकी मन्नते भी पूरी होती है। जो ख्वाजा मोइनुदीन जिसदी का स्थान है। ख्वाजा मोइनुदीन जिसदी एक सूफी संत थे इनका पूरा जीवन गरीबी में चला गया। अजमेर शरीफ दरगाह स्थान सभी के लिए एक पूजनीय व पवित्र स्थान है।

Ajmer Sharif Real Story

Ajmer Sharif Dargah Mannat In Hindi इस स्थान पर हर वर्ष हज़ारो लाखो लोग तीर्थ यात्रा करने के लिए आते है। ख्वाजा साहब का जन्म ईरान में हुआ था इन्होने अपना कुछ समय ईरान में बिताया था उसके बाद ख्वाजा साहब हिंदुस्तान आ गए थे। ख्वाजा साहब ने हिंदुस्तान के अंदर अजमेर में अपने लिए ये जगह बनाई।

हम आपको बताना चाहेंगे कि एक बार अकबर ने अजमेर शरीफ दरगाह पर आकर पुत्र प्राप्ति के लिए मन्नत मांगी थी। अकबर की ये मन्नत ख्वाजा साहब के आशीर्वाद से पूरी हुई और उन्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति भी हुई। इसके बाद बादशाह अकबर ने अजमेर से अजमेर शरीफ तक पैदल चलके ख्वाजा साहब के स्थान पर जाकर उनका धन्यवाद किया था।

हम आपको बताना चाहेंगे की भारत के अलावा इंग्लैण्ड की महारानी व अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराब ओबामा ने भी इस स्थान पर चादर चढ़ाई थी। इसके अलावा और भी कई सारे बॉलीवुड, हॉलीवुड एक्टर्स व बड़े बड़े सिंगर भी यहां आते है। चादर चढ़ाते है और अपनी मनोकामना मांगते है। ख्वाजा साहब की दुआ से सभी लोगो की मनोकामना भी पूरी होती है।

उम्म्मीद करते है दोस्तों आपको हमारी पोस्ट Ajmer Sharif History In Hindi पसंद आयी होगी अगर आप भी अजमेर शरीफ दरगाह में जाकर चादर चढ़ाने वाले है तो हमें कमेंट करके जरूर बताये। अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी है तो आप हमारी पोस्ट Ajmer Sharif Dargah History को अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करे।

धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here